एक बुक जर्नल: काली दुनिया का भगवान - रीमा भारती

Friday, June 24, 2016

काली दुनिया का भगवान - रीमा भारती

रेटिंग : २.५ /५
उपन्यास जून 18,2016 से जून २०१६ के बीच पढ़ा गया


संस्करण विवरण:
फॉर्मेट : पेपरबैक
पृष्ठ संख्या :270
प्रकाशक : धीरज पॉकेट बुक्स



पहला वाक्य :
धप्प!
कच्ची जमीन और मेरे क़दमों के संगम से हल्की-सी आवाज उत्पन्न हुई थी और फिर पैराशूट से बंधी मैं दूर तक घिसटती चली गई थी। 

मडलैंड भारत का एक मित्र राष्ट्र था जिसके राष्ट्रपति सर अडोल्फ़ से भारत के दोस्ताना रिश्ते थे। उन्होंने भारत का समय समय पर आतंकवाद के खिलाफ भारत का सहयोग किया था। लेकिन अब सर अडोल्फ़ मुश्किलों में थे। एक पश्चिमी देश, जो उन्हें तानाशाह समझता था, ने उनकी सरकार का तकता पलट दिया था और उनकी जगह अपना प्यादा बैठा दिया था। सर अडोल्फ़ को छुपना पड़ा था और मडलैंड में गृहयुद्ध की स्थिति हो गयी थी।
नयी सरकार अफोल्फ़ के समर्थकों को चुन चुन कर बंदी  बना रही थी। इन्हीं बंदियों में सर अडोल्फ़ का दायाँ हाथ डगलस भी था। डगलस ही ऐसा शख्स था जो कि जानता था कि सर अडोल्फ़ किधर हैं। इसलिए इस बात की पूरी संभावना थी कि उसे टार्चर करके सैर अडोल्फ़ का पता निकाला जा सकता था।
भारत में इंडियन सीक्रेट कोर (आई एस सी) के चीफ खुराना को जब इस बात का पता चला तो उसका परेशान होना लाज़मी था। डगलस न केवल सर अडोल्फ़ का दायाँ हाथ था बल्कि आई एस सी का एक जाबांज़ एजेंट भी था। उसको जेल से निकालना ज़रूरी था। ये न केवल आई एस सी की साख की बात थी बल्कि इसमें सर अडोल्फ़ की जाना का भी सावल था।
मिशन खतरनाक तो था ही बल्कि संवेदनशील भी था। और ऐसे मिशन के लिए आई एस सी केवल अपनी नंबर वन एजेंट पर ही भरोसा कर सकती थी। तो मिशन रीमा भारती को सौंपा गया।
क्या रीमा कामयाब हुई? क्या डगलस आज़ाद हो पाया? इसके अलावा क्या रीमा सर अडोल्फ़ के लिए कुछ कर पाई? और इन सब में उसे किन किन मुश्किलातों का सामना करना पड़ा?

रीमा भारती का उपन्यास काली दुनिया का भगवान पढ़ा। रीमा भारती के अब तक मैं ४ अन्य उपन्यास पढ़ चुका हूँ (उनके विषय में आप इधर  पढ़ सकते हैं) और उनकी खासियत ये होती है कि उसमे एक्शन की तादाद बहुत ज्यादा होती है। ज्यादातर एक्शन ओवर द टॉप होता है (यानी यथार्थ से दूर होता है) लेकिन उपन्यास मनोरंजक होते हैं। इसके इलावा रीमा भारती का किरदार ऐसा है कि वो हनी ट्रैप का भी काफी इस्तेमाल करती है। और इस कारण इसमें सेक्स भी होता है जो कि इस सीरीज के आकर्षण का केंद्र होता है और इसी वजह से यह सीरीज बदनाम भी है।
खैर, इन सब बातों को इधर मैंने इसलिए उल्लेख किया है क्योंकि 'काली दुनिया का भगवान' में रीमा भारती के उपन्यासों की ये विशेषताएं मौजूद हैं। अब चूँकि मैं अंग्रेजी के उपन्यास पढता आया हूँ तो उपन्यासों में सेक्स मुझे इतना विचलित या एक्साइट नहीं करता है। हाँ, अगर कहानी में ऐसा प्रतीत होता है कि वो जबरदस्ती ठूँसा गया है तो वो परेशान करता है। सौभाग्यवश रीमा भारती के जितने भी उपन्यास मैंने अभी तक पढ़े हैं उनमे ऐसा नहीं हुआ है और इस उपन्यास में भी नहीं है।
उपन्यास की दूसरी विशेषता एक्शन की बात करें तो वो इसमें प्रचुर मात्रा में है जो कि उपन्यास को मनोरंजक बनाता है। कहानी क्योंकि प्रथम पुरुष में है तो कहानी में कई बार रीमा भारती अपनी तारीफ खुद ही करती है। एक आध बार चलता है लेकिन अक्सर ये बात रीमा जरूरत से ज्यादा करती है और इस बाद वह कुछ न कुछ गलती करके फँस जाती है जो उसे बडबोला ही दिखाता है। ये बात उपन्यास में मुझे खली। इसके इलावा उपन्यास के अंत में भी मुझे बोरियत सी आने लगी थी। कहानी को मुझे लगा खींचा गया था। हाँ, इस खींच तान में एक बात सही हुई कि रीमा भारती को एक आदमी ऐसा मिला जिसपर उसकी अदाओं का असर नहीं  हुआ। रीमा के साथ साथ मैं भी इस बात से हैरत में था (हा हा)। अंत के कुछ पन्ने एडिट हो सकते थे जिससे उपन्यास की रफ़्तार बरकरार रहती। और रेटिंग मैं २.५ से साढ़े तीन करता। इसके इलावा एक और मजेदार बात मैंने नोट की। बीच में मुझे लग रहा था कि रीमा भारती की बन्दूक की गोलियाँ कभी खत्म ही नहीं होती लेकिन एक बार खत्म हुई तो मैंने चैन की साँस ली। चलो लेखिका को याद तो आया कि बन्दूक की  गोलियां खत्म भी होती  है।
उपन्यास पढ़ते हुए मुझे एक बात और ध्यान में आई। रीमा इतने मर्दों के साथ हम बिस्तर होती है लेकिन कहीं भी वो प्रोटेक्शन इस्तेमाल नहीं करती है और न ही करने के लिये किसी को मजबूर करती है। मुझे लगता है उसे करना चाहिए। कम कम से सोना है तो सुरक्षित सोओ आखिर तुम आई एस सी की नंबर वन एजेंट हो। ज़िन्दगी कीमती है तुम्हारी और प्रेगनेंसी का भी खतरा रहता है। ये बात आपको बेतुकी लग सकती है लेकिन दिमाग में ख्याल आया तो इधर लिख दिया। लेखिका अगर इनको इस्तेमाल करती है तो एक सही सन्देश ही जायेगा। कथानक में कोई नुकसान तो होगा नहीं।
इसके इलावा उपन्यास मुझे मनोरंजक लगा। रीमा भारती मुझे बेसिकाली जेम्स बांड और माता हरी का मिश्रण लगती है। और माँ भारती की इस अल्हड,चुलबुली और शरारती लाडली के किस्से पढने में मज़ा आता है। अगर आपको सेक्स विचलित करता है तो इसे न पढ़ियेगा। अगर आप केवल इसे सेक्स के लिये पढना चाहते हैं तो भी इसे न पढ़िएगा (उसके लिये कई साईटस मौजूद हैं )। हाँ,अगर एक बॉलीवुड स्टाइल और मसाले दार स्पाई स्टोरी पढना चाहते है तो इसे एक बार पढ़ सकते हैं।
अगर आपने रीमा भारती के उपन्यास पढ़े हैं तो उनके विषय में अपनी राय ज़रूर दीजियेगा। अगर नहीं पढ़े हैं तो वो आपको किसी भी रेलवे स्टेशन में मिल जायेंगे।
अगर यह उपन्यास पढ़ा है तो इसके विषय में भी अपनी टिपण्णी ज़रूर दीजियेगा। ऑनलाइन साईट में तो ये उपलब्ध नहीं होते हैं। 

No comments:

Post a Comment

Disclaimer:

Vikas' Book Journal is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for sites to earn advertising fees by advertising and linking to Amazon.com or amazon.in.

लोकप्रिय पोस्ट्स