Thursday, November 12, 2020

आज का उद्धरण

सत्यजित राय सोने का किला कोट्स


 ...मनुष्यों के मन के मामलों को भी ज्योमेट्री की सहायता से जाना जाता है। सीधे-सीधे आदमी का मन सरल रेखा में चलता है। खराब आदमी का मन साँप की तरह टेढ़ा-मेढ़ा चलता है। पागल का मन कब किधर चल पड़े यह कोई नहीं कह सकता। यहाँ भी वही जटिल ज्योमेट्री।

- सत्यजित राय, सोने का किला

किताब के विषय में मेरे विचार निम्न लिंक जाकर पढ़ सकते हैं:
सोने का किला

किताब निम्न लिंक से मँगवाई जा सकती है:
पेपरबैक |  हार्डबैक 

2 comments:

  1. बहुत सार्थक सन्देश।
    धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएँ आपको।

    ReplyDelete

Disclaimer:

Ek Book Journal is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for sites to earn advertising fees by advertising and linking to Amazon.com or amazon.in.

लोकप्रिय पोस्ट्स