नागिन

कॉमिक्स 20 अप्रैल को पढ़ा गया

संस्करण विवरण:
फॉर्मेट: पेपरबैक
पृष्ठ संख्या: 60
प्रकाशक: राज कॉमिक्स
कथा: जॉली सिन्हा, चित्र: अनुपम सिन्हा, इंकिंग: विनोद कुमार, सुलेख व रंग: सुनील पाण्डेय, सम्पादक: मनीष गुप्ता

नागिन
वह नागिन नीरनाग नाम के प्रजाति के इच्छाधारी नागों के एक कबीले की रानी थी। उसने महानगर को तबाह करने की फैसला लिया था।

नागिन के अनुसार नागराज ने उसके पति की हत्या की थी और अपने पति के मौत का बदला वो महानगर को तबाह करके लेने वाली थी।

वहीं नागराज नागिन के सामने घुटने टेक चुका था। वह उसे हराने में असमर्थ दिखाई दे रहा था। अब महानगर की रक्षा कौन करने वाला था?

क्या नागिन महानगर को तबाह कर डालेगी?

क्या नागराज ने सच में नागिन के पति की हत्या की थी? नागिन का पति नागराज से क्यों लड़ा था?

आखिर नागराज क्यों नागिन के सामने नहीं टिक पाया था?

'नागिन' नागराज का एक विशेषांक है।  बहुत दिनों से नागराज का कोई कॉमिक्स नहीं पढ़ा था। मामा के घर आया तो यह कॉमिक्स मिला और मैं इसे पढ़ने का लोभ संवरण नहीं कर पाया। इसको पढ़ने का एक कारण यह भी था कि यह एकल कॉमिक्स था।  ऐसी रचनायें चाहे वो कॉमिक्स हो या उपन्यास को  पढ़ने में मेरी रूचि रहती है। भाग ढूँढने की जरूरत जो नहीं पड़ती है।

इस कॉमिक्स के माध्यम से लेखक जॉली सिन्हा ने मनुष्यों द्वारा किये जा रहे प्रदूष्ण से धरती के वातावरण को होने वाले नुक्सान की समस्या को उठाने की कोशिश की है। 

मनुष्य श्रृष्टि के सबसे बुद्धिमान जीवों में से एक है। अपनी समझबूझ से उसने अपने जीवन को आसान तो किया है लेकिन अपने लालच के चलते उसने इस धरती का दोहन भी बेतरतीब तरीके से किया है। इसी दोहन का नतीजा है कि कई प्रजातियाँ अब विलुप्ति के कागार पर हैं। वह प्रजातियाँ तो बेचारी अपना बदला नहीं ले पाती हैं लेकिन क्या हो जब मनुष्य के द्वारा किया गया विनाश ऐसी प्रजाति को अपने चपेट में ले जो अपना बदला लेने में सक्षम हो।  

इसी थीम को लेकर इस कॉमिक्स को लिखा गया है। कॉमिक्स रोचक है और रोमांच अंत तक बना रहता है। 

नागराज के सामने इस बार ऐसे दुश्मन हैं जो कि पूरी तरह गलत भी नहीं हैं। ऐसे में वो उनसे कैसे लड़ता है यह देखना रोचक है।

कॉमिक्स में नागराज के सामने नागिन का पति भी आता है। इस नाग के साथ नागराज का युद्ध काफी रोमांचक रहता है क्योंकि इस नाग में भी काफी हैरतंगेज शक्तियाँ रहती हैं। यह नागराज को काँटें की टक्कर देने में सफल रहता है। नागराज की यह लड़ाई रोमांच पैदा कर देती है।

मुझे कॉमिक्स पसंद आया। अगर आप नागराज के फैन हैं तो यह कहानी आपको भी पसंद आएगी।

कॉमिक्स में नागराज के अलवा फेसलेस की भी एंट्री है और वो भी जरूरी ट्विस्ट कहानी में लाता है। हाँ, कहानी में रहस्य की कमी है। कहानी में मुख्य प्लाट के साथ एक षड्यंत्र भी रचा जा रहा होता है। उस षड्यंत्र में शामिल किरदारों से भिडंत और रोचक होती तो ज्यादा मजा आता। अभी उसे जल्दी में निपटाया लगता है।

कॉमिक्स के आखिरी में मौजूद ग्रीन पृष्ठ भी मुझे पसंद आया। ऐसे लेख कॉमिक्स में हो तो वह पाठकों को सोचने के लिए काफी मटेरियल दे देते हैं।

अगर आपने इस कॉमिक्स को पढ़ा है तो आपको यह कैसा लगा? अपने विचारों से मुझे जरूर अवगत करवाईयेगा।

मेरी रेटिंग : 3/5

नागराज के दूसरे कॉमिक्स के विषय में मेरी राय आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
नागराज

राज कॉमिक्स के दूसरे कॉमिक्स के प्रति मेरी राय आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
राज कॉमिक्स

दूसरे कॉमिक्स के प्रति मेरी राय आप निम्न लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं:
कॉमिक्स


© विकास नैनवाल 'अंजान'

Post a Comment

4 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. फेसलेश भारती है ����
    नागराज के पसंदीदा खलनायको में मुझे ये नगीना नागदंत हंमेशा से बढ़िया लगे है और वो मिस किलर तो सबसे बेस्ट जब देखो ट्रांस्मिट हो जाती

    ReplyDelete
    Replies
    1. फेसलेस कौन है यह तो मुझे भी पता है। लेकिन जिसको नहीं पता उसके लिए स्पॉइलर न हो इसलिए इधर नाम नहीं दिया था। नागराज मैंने कम पढ़ा है। नागदंत वाला पढ़ा है। नगीना मिस किलर वाला कोई न कोई कॉमिक पढ़ा होगा तो बचपन में पढ़ा होगा जो कि अब याद नहीं है। जल्द ही उन्हें दोबारा पढ़ूँगा।

      Delete
    2. Shakura ka chakravyuh, Nagraj Ka ant, Jahar, Naagpasha, Khajana agar na padi ho to avashya pade. Nagraj ke janm se judi achchhi, romanchak story hai.

      Delete
    3. जी ब्रजेश जी मौका लगते ही पढता हूँ।

      Delete

Top Post Ad

Below Post Ad