एक बुक जर्नल: गृहदाह - शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय (Grihdah by Sharat Chandra Chattopadhyay)

Wednesday, November 19, 2014

गृहदाह - शरतचन्द्र चट्टोपाध्याय (Grihdah by Sharat Chandra Chattopadhyay)

रेटिंग : ३ /५





संस्करण विवरण :
पृष्ट संख्या :१६५ 
प्रकाशक : डायमंड पॉकेट बुक्स (प्रा. ) लि. 

प्रथम वाक्य :
महिम का एक घनिष्ट मित्र था सुरेश ।

गृहदाह  शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय जी का १९१९ में प्रकाशित उपन्यास था ।  ये उपन्यास कहानी है महिम ,सुरेश और अचला की । महिम एक गरीब घर का लड़का है और उसका घनिष्ट मित्र सुरेश एक धनी परिवार का है।  वो महिम पर बहुत स्नेह रखता है।  जब उसे पता लगता है की महिम एक ब्रह्मो समाजी लड़की से विवाह करना चाहता है तो महिम से नाराज हो जाता है और उससे इस विवाह को तोड़ने के लिए कहता है। इसी उद्देश्य से वो उस लड़की यानि अचला के घर भी जाता है ,ताकि महिम का रिश्ता तुड़वा सके लेकिन वहां जाकर कुछ ऐसी घटनायें होती हैं की सुरेश भी अचला पे मोहित हो जाता है।  आगे की कहानी एक प्रेम त्रिकोण में तब्दील हो जाती है।  आगे क्या होता है ये जानने के लिए तो आपको उपन्यास के पन्ने ही पढ़ने पढ़ेंगे।



उपन्यास की कहानी कुछ हटके नहीं है।  ये एक ऐसी लड़की की कहानी है जो इस बात का निर्णय नहीं ले पाती है की वो किससे  प्रेम करती है। उसे पता रहता है की महिम गरीब है लेकिन फिर भी वो उससे शादी करने को तैयार हो जाती है। गरीबी उसने देखी  नहीं रहती और महिम इससे भली भाँती परिचित रहता है ,इसलिए इस विवाह पर वो इतना हर्ष नहीं प्रकट करता है।  लेकिन जब अचला का गरीबी से सामना होता है तो उसका मोह भंग हो जाता है और उसके विवाहित जीवन में एक कडुवाहट सी घुल जाती है।  महिम और उसके बीच  तकरार बढ़ जाती है।

दूसरी तरफ महिम है जो अपने भावनाओं को आसानी से व्यक्त नहीं कर पता है और अक्सर लोग उसे निष्ठुर समझते हैं।  लेकिन पूरे उपन्यास में वो हमेशा अपनी संवेदनशीलता का परिचय देता रहता है।  तीसरी और सुरेश है वो महिम से स्वाभाव में एक दम उल्टा है ,जहाँ महिम अपनी भावनाओं को अपने अंदर दबा के रखता है , वहीं  सुरेश अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में हिचकिचाता नहीं है।  जो चीज उसे चाहिए वो पाने के लिए वो भले बुरे का ख्याल भी नहीं करता है।

कहानी भले ही इन तीनों मुख्य किरदारों के बीच घूमती है लेकिन शरत जी ने इस कहानी के माध्यम से उस समय के समाज का चित्र भी कागज़ में उकेरने का प्रयास  किया है। उन्होंने ब्रह्मो समाजी और हिन्दुओं के बीच जो तनाव था वो दर्शाया है।  सुरेश एक हिन्दू होने के नाते ब्रह्मो समाजियों से घृणा करना अपना कर्त्तव्य समझता है और ये सोच अमूमन उस वक़्त ज्यादातर लोगों की थी (गाऊँ  और शहर  में )।  इसके इलावा एक और पहलु जो उस समाज का उजागर करता है वो राक्षसी के ससुर जी का कथन जिसमे वो कहते हैं की ज्यादारतर  लोग भले ही ब्रह्मो समाजी बन गए हो लेकिन वो अभी भी अपनी बेटियों को अच्छे हिन्दुओं  की तरह ही पालते हैं।  इस कथन से मैं ये सोचने पे मजबूर हुआ की क्या उस समय की उच्च मध्यमवर्गीय लोगो के लिए ब्रह्मो समाज का हिस्सा बनना एक सोशल फेड था।  शरत चन्द्र जी के उपन्यास अपने समाज का चित्र भी पाठकों के सामने दिखाते हैं और इस उपन्यास में जो समाज का दृश्य उभरा है उसमें से ऊपर लिखी बातें मेरे मन में उभरीं।

अंत में उपन्यास के विषय में ये कहूँगा। कहानी तो मुझे ठीक ठाक लगी लेकिन इस कहानी के साथ जो उस समय का चित्र  जो दिखाया है शरत बाबू ने उसने मुझे ज्यादा प्रभावित किया। दूसरी बात जो जमी है वो ये है की उन्होंने  पात्रों को किसी morality में नहीं बाँधा।
पात्र काफी जीवंत लगे , अक्सर हमें सुरेश ,महिम और अचला जैसे किरदार हमें देखने को मिलते हैं। महिम में  तो कुछ हद तक मैं भी अपने आपको देखता हूँ।  लेकिन मेरी समानता अपनी भावनाओं को अंदर दबाकर रखने तक ही समाप्त हो जाती है।  जिस शालीन तरीके से उसने अपने ऊपर होने वाली त्रासदियों को झेला वो शायद मैं न कर पाता।  किसी भी रचना चाहे वो मूवी हो ,पेंटिंग हो या कोई उपन्यास , मुझे लगता है की अगर उसमें कहीं हम अपना अक्स देख पाते हैं तो वो रचना हमको ज्यादा आकर्षित करती है।  और यही शायद इस उपन्यास और मेरे साथ हुआ।

खैर अगर आप इस  उपन्यास  को पढ़ना चाहते हैं तो आप इसे निम्न लिंक्स से मँगा सकते हैं :-
flipkart
amazon




No comments:

Post a Comment

Disclaimer:

Vikas' Book Journal is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for sites to earn advertising fees by advertising and linking to Amazon.com or amazon.in.

लोकप्रिय पोस्ट्स