मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन द्वारा किया गया साहित्यकारों को वागीश्वरी पुरस्कार 2020 से सम्मानित

मध्यप्रदेश हिंदी साहित्य साहित्य सम्मेलन द्वारा किये गए प्रतिष्ठित वागीश्वरी पुरस्कार 2020 प्रदान
तस्वीर: एमपी ब्रेकिंग न्यूज से साभार

मध्य प्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन द्वारा वागीश्वरी पुरस्कार रविवार 3अकतूबर 2021 को  प्रदान किये गए।  यह पुरस्कार मध्य प्रदेश हिंदी साहित्य सम्मेलन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान प्रदान किये गए। हर वर्ष यह पुरस्कार उपन्यास, कहानी, कविता, गीत और कथेतर गद्य के लिए साहित्यकारों को सम्मानित किया जाता है।

उपन्यास विधा में वर्ष 2020 का वागीश्वरी पुरस्कार लेखिका अनघा जोगलेकर को  उनकी कृति 'अश्वत्थामा यातना का अमरत्व' और पंकज कौरव को उनकी कृति 'शनि: प्यार पर टेढ़ी नजर' के लिए प्रदान किया गया है। 

वहीं कथेतर गद्य में यह पुरस्कार सोनल शर्मा को उनकी किताब 'कोशिशों की डायरी' और आशीष दशोत्तर को उनके व्यंग्य संग्रह 'मोरे अवगुण चित में धरो' के लिए प्रदान किये गए। 

कहानी विधा में वागश्वरी पुरस्कार अमिता नीरव को उनके कथा संग्रह 'तुम जो बहती नदी हो' और कविता वर्मा को उनके संग्रह 'कछु अकथ कहानी' के लिए प्रदान किया गया है। 

कविता विधा में यह पुरस्कार पल्लवी त्रिवेदी को उनके काव्य संग्रह 'तुम जहाँ भी हो', हेमन्त देवलेकर को उनके काव्य संग्रह 'गुल मकई', विवेक चतुर्वेदी को उनके काव्य संग्रह 'स्त्रियाँ घर लौटती हैं' के लिए प्रदान किया गया है। वहीं गीत विधा में वागीश्वरी पुरस्कार इस वर्ष डॉ मौसमी परिहार को उनके नवगीत संग्रह 'मन भर उड़ान' के लिए प्रदान किया गया है। 

(एमपी ब्रेकिंग न्यूज में प्रकाशित एक खबर पर आधारित)

(नोट: किताबों के नाम पर क्लिक कर आप उन्हे अमेज़न से खरीद सकते हैं। इन लिंक्स से खरीदी गयी पुस्तकों पर एक बुक जर्नल को कुछ कमीशन मिलता है जो इस वेबसाईट को सुचारु रूप से चालू रखने में मदद करता है।)

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad