Disclaimer

This post contains affiliate links. If you use these links to buy something we may earn a commission. Thanks.

Thursday, January 28, 2021

आज का उद्धरण

सुचित्रा भट्टाचार्य | अपने लोग | हिन्दी कोट्स

आदमी अगर उदास हो और अचानक ही कोई उसे खोए हुए नाम से आवाज देने लगे, तो उसका मन एकबारगी, खिल उठता है। अपने घर-गृहस्थी की परेशानियाँ, जिन्दा रहने की मुश्किलें, पाने-खोने के सुख-दुःख कुछ भी याद नहीं रहता।

- सुचित्रा भट्टाचार्य, अपने लोग

किताब लिंक: हार्डकवर

© विकास नैनवाल 'अंजान'

2 comments:

  1. बिल्कुल सच । याद दिलाने के लिए शुक्रिया विकास जी ।

    ReplyDelete

Disclaimer:

Ek Book Journal is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for sites to earn advertising fees by advertising and linking to Amazon.com or amazon.in.

लोकप्रिय पोस्ट्स