विराट शृंखला

विराट शृंखला | राज कॉमिक्स | हनीफ़ अज़हर | मुकेश खन्ना


सीरीज संक्षिप्त परिचय

नाम: विराट शृंखला  | टोटल पार्ट्स: 9 | कहानी: कमलेश्वर  | कॉमिक रूपांतर: हनीफ़ अज़हर आर्टवर्क: कदम स्टूडियो, तौफीक, सुरेश डीगवाल   


परिचय

सुन्दरगढ़ राज्य के दक्षिणी कबीले के लोग अपनी बहादुरी के लिए जाने जाते थे। इस कबीले का सरपंच कभी वीर बाहू हुआ करता था। वीर बाहू ने सुन्दर गढ़ में नगर प्रमुख का पद लिए था और अपने राज्य की सेवा करते करते वह शहीद हुआ था। 


विराट इसी वीरबाहु का पुत्र था जो अपने पिता की तरह ही जाबाँज था। यह उसकी जाबाजी का ही परिणाम था कि सुन्दर गढ़ के राजा विजयसिंह ने उसे नगर प्रमुख का पद दिया था। परन्तु विराट कहाँ जानता था कि वह अपने कबीले के शांतिमय जीवन को छोड़ शहर महल पहुँचेगा तो खुद को षडयंत्रों में घिरा पायेगा। 

कालभैरव जो कि सुंदरगढ़ की महारानी का भाई भी है, सुंदरगढ़ का सेना पति है।  कालभैरव अपने गुरु प्रचंडदेव की मदद से राजगद्दी प्राप्त करने का स्वप्न पाल रहा है। प्रचंड देव मायावी शक्तियों का मालिक है जो अपनी इन मायावी ताकतों से कुछ भी करने की कूवत रखता है। पर यह दोनों ही जानते हैं कि जब तक विराट ज़िंदा है वह लोग अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सकेंगे। ऐसे में उसका हटना और महाराज विजयसिंह की नज़रों में गिरना  उनके लिए आवश्यक है। और इसके लिए वह कई तरह के षडयंत्र रचते हैं। 

यह कैसे षड्यंत्र थे? क्या विराट इनसे बाहर निकल पाया? 

इन्हीं सब प्रश्नों का उत्तर राज कॉमिक्स द्वारा प्रकाशित यह श्रृंखला विराट देती है। 

विराट कॉमिक बुक शृंखला असल में विराट नाम के धारावाहिक, जिसकी कहानी कमलेश्वर द्वारा लिखी गयी थी, पर आधारित है। राज कॉमिक्स ने निर्माता मुकेश खन्ना, जिन्होंने विराट का किरदार भी निभाया था, के साथ मिलकर इस धारावाहिक को कॉमिक्स के रूप में रूपांतरित किया था। यह रूपान्तर राज कॉमिक्स के तरफ से लेखक हनीफ अजहर द्वारा किया गया था। यही कारण है कि कॉमिक बुक में कई चरित्रों का चेहरा मोहरा उन्हीं कलाकारों जैसा बनाया गया था जिन्होंने धारावाहिक में वो किरदार निभाए थे। अगर आपने हिन्दी धारावाहिक देखें हैं तो इनमें से कई कलाकारों को आप कॉमिक्स पढ़ते हुए पहचान जायेंगे। 

विराट के कॉमिक बुक की एक और खास बात यह होती थी कि कॉमिक बुक की शुरुआत में मुकेश खन्ना की एक चिट्ठी इसमें प्रकाशित होती थी। इस चिट्ठी में वह बच्चों से  शिक्षाप्रद बातें  साझा करते थे। 

इस श्रृंखला के मुख्य पात्र निम्न हैं:

विराट - वीरबाहू का छोटा बेटा और सुन्दरगढ़ का नगर प्रमुख 
नटवर - विराट का जिगरी दोस्त 
विजय सिंह - सुंदर गढ़ के राजा 
कालभैरव - सुन्दरगढ़ का सेनापति और महारानी का भाई
प्रचंडदेव - कालभैरव का गुरु जो शैतानी शक्तियों का मालिक था 
चतुरा - कालभैरव की वफादार दासी 
अंगला मंगला - प्रचंडदेव की मायावी शक्तियाँ 
दुर्जन सिंह - सुन्दरगढ़ का उप सेना पति 
सत्यप्रिय -न्याय प्रमुख 
यशोधरा - नयाय प्रमुख की बेटी 
पल्लवी - राजवैद्य की पुत्री 
जलरश्मि - जलनगरी की रानी

इस श्रृंखला के कुल मिलाकर नौ भाग ही राज कॉमिक्स द्वारा प्रकाशित किये गये थे। यह भाग निम्न हैं:
(नाम पर क्लिक करके आप इन भागों की समीक्षा पढ़ सकते हैं)

विराट धारवाहिक के काफी एपिसोड यू ट्यूब में मौजूद हैं और निम्न लिंक पर जाकर देखे जा सकते थे:

धारावाहिक में यह कहानी और ज्यादा विस्तृत तौर पर दर्शायी गयी है जिसका कुछ ही भाग कॉमिक बुक में लिया गया है। ऐसे में दोनों को ही अलग अलग लुत्फ उठाया जा सकता है।