Saturday, August 19, 2017

हॉरर कॉमिक्स मेरे पसंदीदा कॉमिक्स

बचपन से ही मुझे कॉमिक्स पढने का शौक रहा है जो कि अभी तक कम नहीं हुआ है। महीने में दो तीन कॉमिक्स तो पढ़ ही लेता हूँ।  वैसे तो मैंने राज कॉमिक्स, मनोज, मार्वल, डीसी, वर्जिन, जो बाद में लिक्विड हुआ और अब पता नहीं क्या है, सब पढ़ा है और जो भी मिल जाये उसे पढ ही देता हूँ। लेकिन अपनी पसंद की बात करूँ तो मुझे कॉमिक्स में सुपर हीरो जेनर(genre) से ज्यादा हॉरर कॉमिक्स पढना पसंद हैं। शायद यही एक कारण भी है मुझे अन्थोनी की कॉमिक्स पढ़ने में कुछ ज्यादा मज़ा आता था। हाथों से कई बार ठंडी आग निकालने की कोशिश की लेकिन असफल ही हुआ। 😜😜😜😜😜😜😜  ऐसे ही डोगा और सुपर कमांडो ध्रुव की निशाचर पढने का आनन्द भी कुछ और था। इसके इलावा राज वाले हॉरर श्रेणी की कॉमिक्स अलग से निकालते थे। ये मुझे काफी पसंद आती थी। कुछ दिनों पहले ऐसे ही नेट में विचरण करते हुए दोबारा इन कॉमिक्स का ख्याल आया जो मुझे राज की साईट पे ले गया और मैंने निम्न कॉमिक्स को खरीद लिया। अब तो चाव लेकर आराम आराम से पढूँगा। तब तक आप तस्वीर देखकर लुत्फ़ उठाइये।

अन्थोनी के कॉमिक्स 

तीन साँप, चिल्लाओ मत,  बैखौफ मरो, जीवनदाता

गलत काम बुरा अंजाम, लाश्खोर, जिंदा हथियार, दहकता शहर 

हॉरर श्रेणी के कॉमिक्स

तेरहवाँ दिन, लाश के टुकड़े,  खुर्रा, ये सर किसका है 

चीखता कब्रिस्तान, चेहरा चोर, तेरी मौत तेरे सामने, दलदल के नीचे
 आशा करता हूँ कि राज वाले हॉरर श्रेणी के कुछ नये और उम्दा कॉमिक्स निकालेंगे।

अगर आपको कुछ अच्छे हॉरर कॉमिक्स के विषय में पता है तो कमेंट बॉक्स में उसका नाम और प्रकाशक का नाम साझा कर सकते हैं। कॉमिक्स अंग्रेजी में भी हुई तो मुझे दिक्कत नहीं लेकिन हॉरर श्रेणी की होनी चाहिए।
आपने इनमे से कौन सी पढ़ी हैं इसके विषय में भी जरूर बताइयेगा। और कौन सी अच्छी लगी और कौन सी बुरी ये भी बताइयेगा। 

4 comments:

  1. जहाँ तक मुझे याद है , पहली कॉमिक्स कांव काँव थी ..जो अन्थोनी सीरीज की बजाय क्रो सीरीज के नाम से आई थी...

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्रो नाम का एक अमेरिकी किरदार था जिसकी कहानी भी अन्थोनी जैसी ही है। शायद उस कारण से भी नाम बदलना पड़ा था। एक क्रो संगीत भी आई थी शायद।

      Delete
  2. यह तो टाइम पास हॉरर कॉमिक्स है अगर मिले तो क्ष सीरीज, हुहुहुह सीरीज, एक कटोरा खून, दो कटोरा खून पढियेगा काफी बढ़िया सीरीज है हॉरर में

    ReplyDelete
    Replies
    1. संदीप जी अगर मिलती है तो जरूर पढूँगा। उम्मीद है राज वालों की साईट में उपलब्ध होगी ये चित्र्काथाएं। सुझाव देने के लिए आपका आभारी हूँ। शुक्रिया।

      Delete

Disclaimer:

Vikas' Book Journal is a participant in the Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program designed to provide a means for sites to earn advertising fees by advertising and linking to Amazon.com or amazon.in.

हफ्ते की लोकप्रिय पोस्टस(Popular Posts)